कहो मत करो – बच्चों के लिए श्रीनाथ सिंह की कविता (Shrinath Singh)

कहो मत करो – बच्चों के लिए श्रीनाथ सिंह की कविता

सूरज कहता नहीं किसी से,
मैं प्रकाश फैलाता हूँ।
बादल कहता नहीं किसी से,
मैं पानी बरसाता हूँ।
आंधी कहती नहीं किसी से,
मैं आफत ढा लेती हूँ।
कोयल कहती नहीं किसी से,
मैं अच्छा गा लेती हूँ।
बातों से न, किन्तु कामों से,
होती है सबकी पहचान।
घूरे पर भी नाच दिखा कर,
मोर झटक लेता है मान।

– श्रीनाथ सिंह

Facebook Comments
Read:  नकली और असली बाल कविता अरुण प्रकाश विशारद की कलम से