हिंदी भाषा के बारे में कुछ रोचक तथ्य – रोहित कुमार ‘हैप्पी’

हिंदी भाषा के बारे में कुछ रोचक तथ्य – रोहित कुमार ‘हैप्पी’

  • सरहपाद को अपभ्रंश का पहला आदि कवि कहा जा सकता है। खुसरो से कहीं पहले सरहपाद का अस्तित्व सामने आता है। राहुल सांकृत्यायन के अनुसार अपभ्रंश की पहली कृति ‘सरह के दोहों’ के रूप में उपलब्ध है। [ राहुल सांकृत्यायन कृत दोहा-कोश से]
  • 1283 खुसरो की पहेली व मुकरी प्रकाश में आईं जो आज भी प्रचलित हैं।
  • हिंदी की पहली ग़ज़ल संभवत: कबीर की ग़ज़ल है।
  • 1805 में लल्लू लाल की हिंदी पुस्तक ‘प्रेम सागर’ फोर्ट विलियम कॉलेज, कोलकाता के लिए पहली हिंदी प्रकाशित पुस्तक थी।
  • हिन्दी का पहला साप्ताहिक समाचारपत्र उदन्त मार्तण्ड पं जुगलकिशोर शुक्ल के संपादन में मई 1926 में कोलकाता से आरम्भ हुआ था।
  • पं० जामनराव पेठे को राष्ट्रभाषा का प्रस्ताव उठाने वाला पहला व्यक्ति कहा जाता है। उन्होंने सबसे पहले भारत की कोई राष्ट्रभाषा हो के मुद्दे को उठाया। ‘भारतमित्र’ का इस विषय में मतभेद था। ‘भारतमित्र’ ने ‘बंकिम बाबू’ को इसका श्रेय दिया है।
  • 1833 में गुजराती कवि नर्मद ने भारत की राष्‍ट्रभाषा के रूप में हिंदी का नाम प्रस्तावित किया।
  • 1877 में श्रद्धाराम फुल्लौरी ने ‘भाग्यवती’ नामक उपन्यास रचा। फल्लौरी ‘औम जय जगदीश हरे’ आरती के भी रचयिता हैं।
  • 1893 में बनारस (वाराणसी) में नागरी प्रचारिणी सभा की स्थापना हुई ।
  • 1900 में द्विवेदी युग का आरंभ हुआ जिसमें राष्ट्र-धारा का साहित्य सामने आया।
  • 1918 में गाँधी जी ने ‘दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा’ की स्थापना की ।
  • 1929 में आचार्य रामचंद्र शुक्ल के ‘हिंदी साहित्य का इतिहास’ का प्रकाशन हुआ ।
  • 1931 में हिंदी की पहली बोलती फिल्म “आलम आरा” पर्दे पर आई।
  • 1996-97 में न्यूजीलैंड से प्रकाशित हिंदी पत्रिका ‘भारत-दर्शन’ इंटरनेट पर विश्व का पहला हिंदी प्रकाशन है।

        संकलन: रोहित कुमार ‘हैप्पी’

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *