आलपीन के सिर होता – रमापति शुक्ल की बाल कविता

आलपीन के सिर होता – रमापति शुक्ल की बाल कविता

आलपीन के सिर होता पर
बाल न होता उसके एक ।

कुर्सी के दो बाँहें हैं पर
गेंद नहीं सकती है फेंक ।

कंधी के हैं दाँत मगर वह
चबा नहीं सकती खाना ।

गला सुराही का है पतला
किंतु न गा सकती गाना ।

होता है मुँह बड़ा घड़े का
पर वह बोल नहीं सकता ।

चार पैर पलंग के होते
पर वह डोल नहीं सकता ।

जूते के है जीभ मगर वह
स्वाद नहीं चख सकता है ।

आँखें होते हुए नारियल
देख नहीं कुछ सकता है ।

है मनुष्य के पास सभी कुछ
ले सकता है सबसे काम
इसीलिए दुनिया में सबसे
बढ़कर है उसका ही नाम।

– रमापति शुक्ल

Facebook Comments
Read:  2 October (दो अक्टूबर) - रत्न चंद 'रत्नेश' बाल साहित्य पर लिखी अद्भुत कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *