आग़ाज़ तो होता है अंजाम नहीं होता – Meena Kumari Best Gazal

आग़ाज़ तो होता है अंजाम नहीं होता – मीना कुमारी (Meena Kumari) Best Gazal

आग़ाज़ तो होता है अंजाम नहीं होता

जब मेरी कहानी में वो नाम नहीं होता

जब ज़ुल्फ़ की कालक में घुल जाए कोई राही

बदनाम सही लेकिन गुमनाम नहीं होता

हँस हँस के जवाँ दिल के हम क्यूँ न चुनें टुकड़े

हर शख़्स की क़िस्मत में इनआ’म नहीं होता

दिल तोड़ दिया उस ने ये कह के निगाहों से

पत्थर से जो टकराए वो जाम नहीं होता

दिन डूबे है या डूबी बारात लिए कश्ती

साहिल पे मगर कोई कोहराम नहीं होता

Credits – Meena Kumari Gazal

Hindi Shayar Facebook Page

Facebook Comments
Read:  आबला-पा कोई इस दश्त में आया होगा - Meena Kumari New Gazal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *