2 October (दो अक्टूबर) – रत्न चंद ‘रत्नेश’ बाल साहित्य पर लिखी अद्भुत कविता

2 October (दो अक्टूबर) – रत्न चंद ‘रत्नेश’ बाल साहित्य पर लिखी अद्भुत कविता, जिसमे उन्होंने गाँधी और शास्त्री जी के सुकर्मो का बखान किया है.

लाल बहादुर, महात्मा गांधी
लेकर आए ऐसी आंधी
कायाकल्प हुआ देश का
जन-जन में चेतना जगा दी।

जन्में थे दोनों दो अक्टूबर
ये पुण्य आत्मा हमारे रहबर
देश-देश, कोने-कोने में
सुख शांति की जोत जला दी।

कोई भी जाति कोई धर्म हो
राग-द्वेश नहीं, एक-सा मर्म हो
मिल-जुल कर रहना सिखलाया
अखंडता की सुगंध फैला दी।

शास्त्री जी का नारा महान
जय जवान, जय किसान
सत्य अहिंसा के बल पर
गांधीजी ने धाक जमा दी।

– Ratan Chand Ratnesh

Facebook Comments
Read:  हिन्दी ही अपने देश का गौरव है मान है - डा. राणा प्रताप सिंह गन्नौरी 'राणा'